Skip to main content

Latest News

20 लाख करोड़ रुपये के पैकेज में किसे क्‍या मिला? जानें - वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण के बड़े ऐलान

News Byte

नई दिल्ली: बीते मंगलवार को देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कोरोना संकट के बीच अर्थव्यवस्था को रफ्तार में लाने के लिए 20 लाख करोड़ रुपये के पैकेज का ऐलान किया था. इसी पैकेज को संक्षिप्त में वित्‍त मंत्री निर्मला सीतारमण ने आज विस्‍तार से जानकारी दी.

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा कि MSME के लिए छह कदम उठाए गए हैं. पहले कदम के तहत सूक्ष्म, लघु एवं मझोली उद्यमों समेत कारोबारी इकाइयों को तीन लाख करोड़ रुपये का लोन बिना किसी गारंटी के मिलेगा. इससे 45 लाख इकाइयों को लाभ मिलेगी. इसकी समय सीमा 4 साल होगी. एक साल तक मूल धन नहीं चुकाना होगा. यह योजना 31 अक्टूबर 2020 तक लागू रहेगी. वहीं, दूसरे कदम के तहत, नकदी संकट का सामना कर रही MSME के लिए 20,000 करोड़ रुपये का प्रावधान किया गया है.

वित्त वर्ष 2019-20 के लिए आयकर रिटर्न भरने की अंतिम तिथि को बढ़ाकर 30 नवंबर 2020 कर दिया गया है. इसी तरह विवाद से विश्‍वास स्‍कीम की डेडलाइन को 31 दिसंबर 2020 तक कर दी गई है. पहले ये 30 जून तक के लिए था.

टैक्‍सपेयर्स को 31 मार्च 2021 तक टीडीएस कटौती में 25 फीसदी की राहत मिली है. बता दें कि सरकार टीडीएस (TDS) के जरिये टैक्स जुटाती है. टीडीएस विभिन्न तरह के आय के स्रोत पर काटा जाता है. इसमें सैलरी, किसी निवेश पर मिले ब्याज या कमीशन आदि शामिल हैं.

रियल एस्टेट के मामले में एडवाइजरी जारी होगा कि सभी प्रोजेक्ट्स को मार्च से आगे 6 महीने तक मोहलत दी जाए.

डिस्कॉम यानी बिजली वितरण कंपनियों की मदद के लिए इमरजेंसी लिक्विडिटी 90,000 करोड़ रुपये दी जाएगी.

नॉन बैंकिंग फाइनेंस कंपनी, माइक्रो फाइनेंस कंपनियों के लिए 30,000 करोड़ की विशेष लिक्विडिटी स्कीम लाई जा रही है. इससे नकदी का संकट नहीं रह जाएगा.

एनबीएफसी को 45,000 करोड़ की पहले से चल रही योजना का विस्तार होगा. वहीं आं​शिक ऋण गारंटी योजना का विस्तार होगा, इसमें डबल ए या इससे भी कम रेटिंग वाले एनबीएफसी को भी कर्ज मिलेगा.

एमएसएमई सेक्‍टर की परिभाषा बदल दी गई

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने बताया कि एमएसएमई यानी सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्योग की परिभाषा बदल दी गई है. इसमें निवेश की लिमिट में बदलाव किया गया है. 1 करोड़ निवेश या 10 करोड़ टर्नओवर पर सूक्ष्म उद्योग का दर्जा दिया जाएगा.

इसी तरह 10 करोड़ निवेश या 50 करोड़ टर्नओवर पर लघु उद्योग का दर्जा दिया जाएगा. वहीं 20 करोड़ निवेश या 100 करोड़ टर्नओवर पर मध्यम उद्योग का दर्जा होगा.निर्मला सीतारमण ने बताया कि मौजूदा दौर में ट्रेड फेयर संभव नहीं है.

 

Read more

पंडित जवाहर लाल नेहरू और राजीव गांधी के खिलाफ ट्वीट के लिए संबित पात्रा पर महाराष्ट्र में केस दर्ज

News Byte

महाराष्ट्र: कांग्रेस पार्टी और उसके दिवंगत नेताओं पर आपत्तिजनक ट्वीट करने के मामले में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के राष्ट्रीय प्रवक्ता संबित पात्रा के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है। महाराष्ट्र पुलिस ने मंगलवार को यह जानकारी दी। भारतीय युवा कांग्रेस के महासचिव बृजकिशोर दत्त ने संबित पात्रा के खिलाफ शिकायत दर्ज कराई है, जिसके बाद यह मामला दर्ज किया गया।

संबित पात्रा ने ट्वीट कर कहा कि यदि कांग्रेस के शासनकाल में कोविड-19 की समस्या उत्पन्न हुई होती तो बड़े पैमाने पर धन का गबन और दुरुपयोग होता। भाजपा प्रवक्ता ने अपने विवादास्पद ट्वीट में कहा, 'यदि यह महामारी कांग्रेस के शासनकाल में आई होती तो पांच हजार करोड़ रुपये मास्क पर, सात हजार करोड़ रुपये कोरोना जांच किट पर, 20 हजार करोड़ रुपये सैनिटाइजर पर और 26 हजार करोड़ रुपये राजीव गांधी वायरस अनुसंधान पर खर्च किए जाते।'

युवा कांग्रेस महासचिव ने अपनी शिकायत में कहा कि इसके अलावा संबित पात्रा ने पंडित जवाहर लाल नेहरू और राजीव गांधी की तस्वीरों का उपयोग कर पार्टी के दिग्गज नेताओं की मानहानि की है। पुलिस की प्रवक्ता सुखदा नारकर ने बताया कि संबित पात्रा के खिलाफ भारतीय दंड संहिता (आईपीसी) की धारा 500 के तहत कल्याण पुलिस स्टेशन में मामला दर्ज किया गया है।

 

Read more

कोरोना संकट: महाराष्ट्र में उद्धव सरकार का बड़ा फैसला, जेल से छोड़े जाएंगे करीब 50 फीसदी कैदी

News Byte

मुंबई: महाराष्ट्र सरकार ने राज्य की जेलों में बंद कुल 35 हजार कैदियों में से आधे 17 हजार कैदियों को अस्थायी पैरोल पर छोड़ने का फैसला किया है. प्रदेश के गृह मंत्री अनिल देशमुख ने मंगलवार को कहा कि ऐसा कोरोना वायरस के प्रसार को रोकने के लिए किया गया है. इनमें से 5000 विचाराधीन कैदियों को पहले ही छोड़ा जा चुका है, देशमुख ने कहा कि सरकार ने यह फैसला हाल में मुंबई की आर्थर रोड जेल में 185 कैदियों के संक्रमित पाए जाने के बाद किया है.

मुंबई की आर्थर रोड जेल में भी कोरोना से दस्तक दे दी है और जेल के डेढ़ सौ से अधिक कैदियों को कोरोना संक्रमण का शिकार होना पड़ा है. जेल के कैदियों में संक्रमण फैलता देख महाराष्ट्र सरकार ने बड़ा फैसला लिया है. जेल के 17000 कैदियों को पैरोल पर छोड़ने का फैसला लिया है. यह फैसला लेने से पहले महाराष्ट्र सरकार के गृह विभाग ने एक्सपर्ट को लेकर कमेटी बनाई और सामूहिक निर्णय लिया.

इससे पहले महाराष्ट्र सरकार द्वारा नियुक्त एक उच्चाधिकार प्राप्त समिति ने कोविड-19 महामारी के मद्देनजर राज्य की जेलों में भीड़ कम करने के उद्देश्य से करीब 50 प्रतिशत कैदियों को अस्थायी रूप से रिहा करने का फैसला किया था. ट्विटर पर एक वीडियो संदेश में देशमुख ने कहा आर्थर रोड जेल के 185 कैदी संक्रमित मिले हैं. उन्होंने कहा कि राज्य सरकार ने अब जेलों में कोरोना वायरस का प्रसार रोकने के मद्देनजर महाराष्ट्र की जेलों में बंद 35 हजार कैदियों में से 17 हजार को अस्थायी पैरोल पर छोड़ने का फैसला किया है.

सरकार ने स्पष्ट किया कि दुष्कर्म, बड़े आर्थिक और बैंक घोटालों, मकोका, टाडा और ऐसे ही अन्य संगीन मामलों में दोषी ठहराए गए कैदियों को नहीं छोड़ा जाएगा, मंत्री ने कहा कि सरकार ने पहले ही आठ जेलों को लॉकडाउन कर दिया है और कोरोना वायरस संबंधी बंदिशों के लागू रहने तक वहां किसी के प्रवेश या बाहर निकलने की इजाजत नहीं होगी.

 

Read more

'आत्मनिर्भर भारत' के लिए 20 लाख करोड़ रु. के आर्थिक पैकेज के एलान साथ नए रूप, नए नियम वाला होगा लॉकडाउन 4.0 - नरेंद्र मोदी

News Byte

नई दिल्ली: देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार को राष्ट्र के नाम अपने संबोधन में लॉकडाउन 4.0 बढ़ाने का संकेत दिया है. पीएम मोदी ने बताया कि 18 मई से पहले लॉकडाउन के चौथे चरण की जानकारी साझा की जाएगी, इसके साथ ही उन्होंने कहा कि ये लॉकडाउन नए रंग-रूप-नियम वाला होगा. बता दें कि देश में लागू लॉकडाउन 3.0 की अवधि 17 मई को खत्म हो रही है. अपने संबोधन में पीएम मोदी ने आर्थिक पैकेज का ऐलान भी किया, जो कि 20 लाख करोड़ रुपये का है.

पीएम ने कहा कि 20 लाख करोड़ रुपये का पैकेज 'आत्मनिर्भर भारत अभियान' को नई गति देगा. उन्होंने कहा कि इसका ब्योरा अगले कुछ दिनों में जारी किया जाएगा. इसके साथ ही उन्होंने कहा कि कोरोनावायरस ने भारत को आत्मनिर्भर बनने और दुनिया में आगे बढ़ने अवसर उपलब्ध कराया है. पीएम मोदी ने यह भी कहा कि 18 मई से लॉकडाउन का चौथा चरण भी लागू किया जाएगा पर यह पहले के तीन चरणों से काफी अलग होगा. बता दें कि लॉकडाउन का तीसरा चरण 17 मई को समाप्त होने जा रहा है. तीसरे चरण में भी कारोबारी गतिविधियों के मामले में कई तरह की रियायतें दी गई.

पढ़ें पीएम मोदी के संबोधन की 10 बड़ी बातें:

1. आर्थिक पैकेज: पीएम मोदी ने कहा, ''कोरोना संकट का सामना करते हुए, नए संकल्प के साथ मैं आज एक विशेष आर्थिक पैकेज की घोषणा कर रहा हूं. ये आर्थिक पैकेज, 'आत्मनिर्भर भारत अभियान' की अहम कड़ी के तौर पर काम करेगा.'' पीएम मोदी ने कहा कि इन सबके जरिए देश के विभिन्न वर्गों को, आर्थिक व्यवस्था की कड़ियों को, 20 लाख करोड़ रुपए का संबल मिलेगा, सपोर्ट मिलेगा. 20 लाख करोड़ रुपए का ये पैकेज, 2020 में देश की विकास यात्रा को, आत्मनिर्भर भारत अभियान को एक नई गति देगा.


2. GDP का 10 फीसदी: पीएम मोदी ने कहा, ''हाल में सरकार ने कोरोना संकट से जुड़ी जो आर्थिक घोषणाएं की थीं, जो रिजर्व बैंक के फैसले थे, और आज जिस आर्थिक पैकेज का ऐलान हो रहा है, उसे जोड़ दें तो ये करीब-करीब 20 लाख करोड़ रुपए का है. ये पैकेज भारत की GDP का करीब-करीब 10 फीसदी है.''


3. किसे फायदा मिलेगा?: पीएम मोदी ने कहा कि ये आर्थिक पैकेज हमारे कुटीर उद्योग, गृह उद्योग, हमारे लघु-मंझोले उद्योग, हमारे MSME के लिए है, जो करोड़ों लोगों की आजीविका का साधन है, जो आत्मनिर्भर भारत के हमारे संकल्प का मजबूत आधार है. ये आर्थिक पैकेज देश के उस श्रमिक के लिए है, देश के उस किसान के लिए है जो हर स्थिति, हर मौसम में देशवासियों के लिए दिन रात परिश्रम कर रहा है. ये आर्थिक पैकेज हमारे देश के मध्यम वर्ग के लिए है, जो ईमानदारी से टैक्स देता है, देश के विकास में अपना योगदान देता है. ये संकट इतना बड़ा है, कि बड़ी से बड़ी व्यवस्थाएं हिल गई हैं. लेकिन इन्हीं परिस्थितियों में हमने, देश ने हमारे गरीब भाई-बहनों की संघर्ष-शक्ति, उनकी संयम-शक्ति का भी दर्शन किया है.


4. लॉकडाउन 4.0: पीएम मोदी ने लॉकडाउन को आगे बढ़ाने की भी घोषणा की. उन्होंने कहा कि लॉकडाउन का चौथा चरण, लॉकडाउन 4, पूरी तरह नए रंग रूप वाला होगा, नए नियमों वाला होगा.


5. लॉकडाउन से जुड़ी जानकारी कब आएगी?: पीएम मोदी ने कहा कि राज्यों से हमें जो सुझाव मिल रहे हैं, उनके आधार पर लॉकडाउन 4 से जुड़ी जानकारी भी आपको 18 मई से पहले दी जाएगी.


6. आत्मनिर्भर भारत: पीएम मोदी ने कहा, ''विश्व की आज की स्थिति हमें सिखाती है कि इसका मार्ग एक ही है- "आत्मनिर्भर भारत". उन्होंने कहा कि एक राष्ट्र के रूप में आज हम एक बहुत ही अहम मोड़ पर खड़े हैं. इतनी बड़ी आपदा, भारत के लिए एक संकेत लेकर आई है, एक संदेश लेकर आई है, एक अवसर लेकर आई है.


7. कैसे बनेगा आत्मनिर्भर: पीएम मोदी ने कहा कि दुनिया को विश्वास होने लगा है कि भारत बहुत अच्छा कर सकता है, मानव जाति के कल्याण के लिए बहुत कुछ अच्छा दे सकता है. सवाल यह है - कि आखिर कैसे? इस सवाल का भी उत्तर है- 130 करोड़ देशवासियों का आत्मनिर्भर भारत का संकल्प.


8. पांच पिलर्स: आत्मनिर्भर भारत की ये भव्य इमारत, पांच Pillars पर खड़ी होगी. पहला पिलर इकॉनमी. दूसरा पिलर है इंफ्रास्ट्रक्चर. एक ऐसा इंफ्रास्ट्रक्चर जो आधुनिक भारत की पहचान बने. तीसरा पिलर है हमारा सिस्टम- एक ऐसा सिस्टम जो बीती शताब्दी की रीति-नीति नहीं, बल्कि 21वीं सदी के सपनों को साकार करने वाली. टेक्नोलॉजी ड्रिवेन व्यवस्थाओं पर आधारित हो. चौथा पिलर है हमारी डेमोग्राफी- दुनिया की सबसे बड़े लोकतंत्र में हमारी वाइब्रेंट डेमोग्राफी हमारी ताकत है, आत्मनिर्भर भारत के लिए हमारी ऊर्जा का स्रोत है. पांचवां पिलर है डिमांड- हमारी अर्थव्यवस्था में डिमांड और सप्लाई चेन का जो चक्र है, जो ताकत है, उसे पूरी क्षमता से इस्तेमाल किए जाने की जरूरत है.


9. नई आशा: पीएम मोदी ने कहा कि जिंदगी और मौत की लड़ाई लड़ रही दुनिया में आज भारत की दवाइयां एक नई आशा लेकर पहुंचती हैं. इन कदमों से दुनिया भर में भारत की भूरि-भूरि प्रशंसा होती है, तो हर भारतीय गर्व करता है. पीएम मोदी ने कहा कि जब कोरोना संकट शुरु हुआ, तब भारत में एक भी पीपीई (PPE) किट नहीं बनती थी. एन-95 मास्क का भारत में नाममात्र उत्पादन होता था. आज स्थिति ये है कि भारत में ही हर रोज 2 लाख PPE और 2 लाख एन-95 मास्क बनाए जा रहे हैं.


10. लॉकडाउन: देश में राष्ट्रव्यापी लॉकडाउन 25 मार्च से लागू है. लॉकडाउन का दूसरा चरण तीन मई को समाप्त हुआ था, जबकि पहला चरण 14 अप्रैल को समाप्त हुआ था. तीसरे चरण के लॉकडाउन की मियाद 17 मई तक है. बता दें कि कोरोना वायरस के मामले लगातार बढ़ रहे हैं. आज COVID 19 से संक्रमित लोगों की संख्या बढ़कर 70756 हो गई.

Read more

अरविंद केजरीवाल ने लॉकडाउन में छूट के लिए दिल्ली की जनता से मांगे सुझाव

News Byte

नई दिल्ली: कोरोना वायरस महामारी के चलते लॉकडाउन समेत तमाम मुद्दों को लेकर दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने प्रेस कॉन्फ्रेंस करके उन्होंने कहा, ''लॉकडाउन 17 मई तक है, हालांकि प्रधानमंत्री जी ने इस पर चर्चा की थी. प्रधानमंत्री जी ने पूछा कि कौन सा राज्य क्या चाहता है. प्रधानमंत्री जी ने कहा कि 15 तारीख तक अपने अपने सुझाव भेज दीजिए और उन सुझावों पर फिर केंद्र सरकार निर्णय लेगी. मैं आज दिल्ली के लोगों से सुझाव मांगना चाहता हूं. 17 मई के बाद क्या होना चाहिए? क्या लॉकडाउन में ढिलाई दी जानी चाहिए? अगर दी जानी चाहिए तो कितनी और किस क्षेत्र में कितनी-कितनी दी जानी चाहिए?''

दिल्ली के मुख्यमंत्री ने यह भी कहा, ''क्या ऑटो टैक्सी चालू होने चाहिए? क्या स्कूल, मार्केट और इडस्ट्रियल एरिया खोलने चाहिए? जाहिर सी बात है कि सोशल डिस्टेंसिंग कड़ाई से की जाएगी. सबके लिए मास्क पहनना अनिवार्य होगा. कल शाम 5:00 बजे तक अपने सुझाव मुझे भेज दीजिए. मैं जनता के सुझाव भी ले रहा हूं. एक्सपर्ट से बात भी करूंगा. डॉक्टर से भी बात करूंगा और जितने अच्छे सुझाव आएंगे उनको डॉक्टर और एक्सपर्ट से बात करके हम दिल्ली वालों की तरफ से प्रस्ताव बनाकर केंद्र प्रकार को भेज देंगे. परसों तक हम अपना प्रस्ताव केंद्र सरकार को भेज देंगे.''

उन्होंने फीडबैक देने के लिए डिटेल्स भी दिए हैं-
फोन नंबर- 1031
व्हाट्सएप्प- 8800007722
Email- delhicm.suggestions@gmail.com

 

 

सीएम केजरीवाल ने आगे कहा, ''नगर निगम के स्कूल में एक टीचर थी, उनका सेवा करते-करते कोरोना के चलते देहांत हो गया. वह कॉन्ट्रैक्ट पर थीं और उनकी ड्यूटी लगी थी कि गरीबों के लिए जो दिल्ली सरकार खाना बांट रही है उसको गरीबों को बांटे. 4 मई को उनका देहांत हो गया. खाना बांटते वक्त उनको भी कोरोना हो गया. उनके परिवार को दिल्ली सरकार एक करोड़ रुपये देगी. हमें ऐसे कोरोना वारियर पर गर्व है.''

Read more

देश के सीमा पर चीन की हिमाकत, PLA के हेलीकॉप्टर देख भारतीय वायुसेना ने उड़ाए लड़ाकू विमान, 'ड्रैगन' की चाल नाकाम

News Byte

नई दिल्ली: वैश्विक कोरोना संकटकाल के चलते अमेरिका से चल रही तनातनी के बीच चीन ने हिमाकत करते हुए भारतीय सीमा पर हलचल बढ़ा दी है. भारतीय वायुसेना ने भी लद्दाख में चीन को करारा जवाब देने के लिए लड़ाकू विमानों की तैनाती कर दी है. पिछले दिनों भारतीय वायुसीमा क्षेत्र के करीब चीनी सैन्य हेलीकॉप्टर उड़ान भरते दिखे थे और वो भारतीय वायुसीमा क्षेत्र का उल्‍लंघन कर सकते थे.

सरकारी सूत्रों के अनुसार, "जैसे ही चीनी हेलीकॉप्टरों की आवाजाही शुरू हुई, भारतीय लड़ाकू विमानों को लद्दाख सेक्टर में सीमावर्ती क्षेत्रों में ले जाया गया. भारतीय वायुसेना के लड़ाकू विमान ने नजदीकी बेसकैंप से उड़ान भरी थी. हालांकि चीन के हेलीकॉप्‍टरों ने भारतीय वायु सीमा का उल्‍लंघन नहीं किया है."

पिछले दिनों उत्तरी सिक्किम में भारतीय और चीनी सैनिकों के बीच आमना-सामना हुआ, जिसमें दोनों पक्षों के सदस्यों को मामूली चोटें आईं. इस दौरान भारतीय और चीनी सेना के जवान आक्रामक हो गए थे, जिसमें कुछ को मामूली चोटें आई थीं. हालांकि, बाद में स्थानीय स्तर पर बातचीत के बाद सैनिकों को हटा दिया गया था.

एक तरफ चीन के हेलीकॉप्‍टर भारतीय वायुसीमा क्षेत्र का उल्‍लंघन करने की कोशिश कर रहे हैं तो दूसरी ओर, पाकिस्‍तान के लड़ाकू विमान पिछले कई दिनों से सरहदी इलाकों में लगातार गश्‍त कर रहे हैं. पाकिस्तानी वायु सेना के विमान F-16, JF-17 और मिराज III सरहदी इलाके में गश्ती कर रहे हैं. बताया जा रहा है कि हंदवाड़ा हमले के बाद भारत के पलटवार से पाकिस्तान सतर्क है.

Read more