Image description
Image captions

ओडिशा में कोरोना वायरस से संक्रमित जो पहला केस सामने आया है वह 10 दिन पहले ही इटली से लौटा था। बता दें कि चीन के बाद इटली से इस वक्त कोरोना के सबसे अधिक मरीज सामने आ रहे हैं। इस शख्स ने इटली से वापस आकर होम क्वैरेंटीन से बचने के लिए कई बार गेस्ट हाउस बदले और यही नहीं भुवेश्वर वापस आने तक वह 129 लोगों के संपर्क में भी आ चुका है। इस खुलासे के बाद स्वास्थ्य महकमे में हड़कंप मचा हुआ है।

कोरोना से संक्रमित इस 33 साल के रिसर्चर का कैपिटल हॉस्पिटल में इलाज चल रहा है जहां उसे अब आइसोलेशन वॉर्ड में रखा गया है। ओडिशा का कोरोना केस जिन 129 लोगों के संपर्क में आया उनमें से 76 राजधानी एक्सप्रेस में उसके सहयात्री थे। रिसर्चर इटली के मिलान से 6 मार्च को दिल्ली आया था और एयरपोर्ट पर स्क्रीनिंग क्लियर की।

एक अधिकारी ने बताया, 'मरीज ने एम्स के पास एक प्राइवेट गेस्टहाउस में एक रात बिताई। इसके बाद वह आईआईटी दिल्ली के गेस्ट हाउस में शिफ्ट हो गया। इसके बाद पहाड़गंज के पास तीसरा गेस्टहाउस पकड़ा। 11 मार्च को वह भुवनेश्वर जाने वाली राजधानी में चढ़ा और अगले दिन फ्लू के लक्षण लिए वह भुवनेश्वर पहुंच गया।'

रिसर्चर के पिता उसे रेलवे स्टेशन में लेने आए और ऑटोरिक्शा से घर लेकर गए। 13 मार्च को वह चेकअप के लिए कैपिटल अस्पताल गया और अगले दिन आइसोलेशन वॉर्ड में उसे शिफ्ट कर दिया गया। रविवार को उसकी रिपोर्ट पॉजिटिव आई।