Image description
Image captions

झारखंड राज्य के जमशेदपुर शहर में दो फल की दुकानों पर "विश्व हिंदू परिषद अनुमोदित हिंदू फल की दुकान" लिखने को लेकर सोशल मीडिया पर काफी हंगाम मच गया था. एक यूजर ने इन फलों की दुकानों की तस्वीरों को ट्विटर पर झारखंड पुलिस को टैग किया, इसके बाद झारखंड पुलिस के हैंडल से जमशेदपुर पुलिस को इस संबंध में उचित कार्रवाई का निर्देश दिया गया. कुछ ही देर में जमशेदपुर पुलिस की ओर से जवाबी ट्वीट में कहा गया कि मामले का तत्काल संज्ञान लेते हुए संबंधित फल दुकानों से पोस्टर हटवा दिया गया है और संबंधित दुकानदारों के विरुद्ध कदमा थाने में आईपीसी की धार 107 के तहत निरोधात्मक कार्रवाई की जा रही है.

पुलिस कार्यवाही के बाद से सोशल मीडिया ट्विटर पर हंगामा मच गया, कई लोगों को जमशेदपुर पुलिस की कार्रवाई नागवार गुजरी और वे ट्वीट के जरिए उन दुकानों पर भी कार्रवाई की मांग करते दिखे जिनके बोर्ड अन्य धर्मों के नाम अथवा प्रतीक थे. रात में #Hinduphobia_in_Jharkhand ट्विटर पर लोग अपनी प्रतिक्रिया दे रहे है. कई यूजर्स ने इस बात पर सवाल उठाए कि हिंदू फल की दुकान लिखने में गलत क्या है और पुलिस ने किस कानून के तहत कार्रवाई की है. इन लोगों का सवाल था कि कि क्या यही कदम 'हलाल' अथवा 'मुस्लिम होटल' लिखे हुए होटल, रेस्तरां और दुकानों के खिलाफ उठाया जाएगा.

 

जमशेदपुर पुलिस की कार्रवाई पर मुंबई बीजेपी के प्रवक्ता सुरेश नाखुआ ने ट्वीट कर पूछा कि पुलिस ने किस कानून के तहत इन पोस्टरों को हटवाया है.