Image description
Image captions

नई दिल्ली: कांग्रेस पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने गुरुवार को प्रवासी श्रमिकों से जुड़ा एक वीडियो शेयर करते हुए कहा कि, "ये मजूदर देश के स्वाभिमान का ध्वज हैं. इसे कभी भी झुकने नहीं देंगे. इनकी चीखें सरकार तक पहुंचाई जाएगी और उन्हें मदद दिलाई जाएगी."

उन्होंने ट्वीट किया, "अंधकार घना है कठिन घड़ी है, हिम्मत रखिए-हम इन सभी की सुरक्षा में खड़े हैं. सरकार तक इनकी चीखें पहुंचा के रहेंगे, इनके हक़ की हर मदद दिला के रहेंगे." कांग्रेस नेता ने कहा, "देश की साधारण जनता नहीं, ये तो देश के स्वाभिमान का ध्वज हैं... इसे कभी भी झुकने नहीं देंगे."

वहीं लोकसभा में कांग्रेस पार्टी के नेता अधीर रंजन चौधरी ने कोरोनावायरस से संबंधित राजग सरकार के आर्थिक पैकेज को एक "तमाशा' और करोड़ों लोगों की पीड़ा के साथ "क्रूर मजाक" बताया है. इसके साथ ही उन्होंने कहा कि राहुल गांधी की प्रस्तावित न्याय योजना इस स्थिति में व्यापक रूप से प्रभावी होती. पश्चिम बंगाल की बरहामपुर लोकसभा सीट से पांच बार के सांसद चौधरी ने 3,000 करोड़ रुपये खर्च कर एक प्रतिमा (गुजरात में स्टैच्यू ऑफ यूनिटी) बनवाने के लिए केंद्र पर निशाना साधा और कहा कि सरकार उन लोगों की समस्याओं को दूर करने में विफल रही है जो कोरोना वायरस के कारण लागू लॉकडाउन में नौकरी खो चुके हैं और संकट का सामना कर रहे हैं.

उन्होंने ट्वीट कर कहा कि 20 लाख करोड़ के आत्मनिर्भर पैकेज में कोरोना वायरस टीका अनुसंधान के लिए कोई ठोस वित्तीय प्रावधान नहीं है. पीएम केयर्स फंड में इसके टीका के लिए 100 करोड़ रुपये की मामूली रकम दी गई है. चौधरी ने कहा कि कोरोना टीका के लिए पर्याप्त निवेश की जरूरत है और सरकार को इस बारे में कंजूसी नहीं करनी चाहिए.