Skip to main content

उत्तर प्रदेश


Vikas Dubey Encounter: मारा गया 8 पुलिस वालों का 'कातिल' विकास दुबे, जानिए एनकाउंटर की पूरी कहानी

News Byte

कानपूर: कानपुर के चौबेपुर क्षेत्र में 8 पुलिसकर्मियों की हत्या के मुख्य आरोपी विकास दुबे को आज (शुक्रवार) सुबह पुलिस के एनकाउंटर में मार गिराया. आपको बता दें कि, विकास दुबे को कानपुर ला रही STF के काफिले की एक गाड़ी आज सुबह हादसे का शिकार हो गई थी. पुलिस के अनुसार हादसे के बाद पुलिस की बंदूक छीनकर विकास भागने कोशिश कर रहा था. इसी दौरान पुलिस ने कुख्यात अपराधी को मार गिराया.

भागने की कोशिश में विकास दुबे को पुलिस ने ढेर कर दिया है. बताया जा रहा है कि जो गाड़ी पलटी थी, विकास दुबे उसी में सवार था. एसटीएफ का कहना है कि विकास दुबे ने हथियार छीना और 2-3 किलोमीटर भागा. इसके बाद एनकाउंटर में उसे मार गिराया गया. विकास दुबे को गुरुवार सुबह उज्जैन के महाकाल मंदिर से गिरफ्तार किया गया था. उत्तर प्रदेश पुलिस की STF उसे मध्य प्रदेश से उत्तर ला रही थी.

कैसे हुआ हादसा?
जानकारी के अनुसार विकास दुबे को लेकर रवाना हुई गाड़ियों में सबसे आगे चल रही गाड़ी ने गुना के टोल प्लाजा के स्टॉपर पर तेजी से टक्कर मार दी. टक्कर लगने के बाद पीछे काफिले में चल रही अन्य गाड़ियों ने तेजी से ब्रेक लगाए और सभी गाड़ियां असंतुलित होने लगी. विकास दुबे दूसरे नंबर की गाड़ी में दो लोगों के साथ बीच की सीट पर बैठा हुआ था. गाड़ी के पलटने के साथ ही विकास ने भागने की कोशिश शुरू कर दी. उसने एक पुलिसकर्मी की पिस्तौल निकाल ली और वहां से भागने की कोशिश करने लगा. इसी दौरान पुलिस ने उसे मार गिराया.

 

Read more

उत्तर प्रदेश में कोरोना के बढ़ते मामले को देखते हुए शुक्रवार रात से सोमवार सुबह तक लागू होगा लॉकडाउन

News Byte

लखनऊ: उत्तर प्रदेश में लगातार बढ़ते कोरोना मामले को देखते हुए फिर से लॉकडाउन लगाया जा रहा है. प्रदेश में कल शुक्रवार रात 10 बजे से 13 जुलाई की सुबह 5 बजे तक लॉकडाउन का आदेश जारी किया गया है. हालांकि इस दौरान अस्पताल और अन्य जरूरी सामान की दुकानें खुलेंगी. हालांकि इस दौरान जरूरी सेवा में किसी तरह की बाधा नहीं आएगी. कोरोना वायरस के बढ़ते मामलों को देखते हुए लॉकडाउन का फैसला लिया गया है.

प्रदेश में बढ़ते कोरोना केस पर नियंत्रण की कोशिश के तहत मुख्य सचिव राजेंद्र तिवारी ने लॉकडाउन के आदेश जारी किया. इस दौरान सभी शहरी और ग्रामीण क्षेत्रों के बाजार, हाट, गल्ला मंडी और कार्यालय बंद रहेंगे. हालांकि इस दौरान आवश्यक सेवाओं पर कोई रोक नहीं होगी.

उधर, केंद्रीय स्‍वास्‍थ्‍य मंत्रालय ने गुरुवार को कहा है कि भारत में प्रति 10 लाख की आबादी पर कोविड-19 के मामले और उससे होने वाली मौतें दुनिया में सबसे कम है. विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) के आंकड़ों की ओर इशारा करते हुए सरकार ने कहा कि अगर प्रति मिलियन (10 लाख) संक्रमण की दर की गणना की जाए तो भारत में अभी भी कोरोना मामलों की संख्या बेहद कम है. कोरोना के केसों के मामले में अमेरिका और ब्राजील के बाद तीसरे स्‍थान पर भारत का स्‍थान आता है.स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा है कि देश में संक्रमण मुक्त हुए लोगों की संख्या इलाज करा रहे लोगों के मुकाबले 1.75 गुना ज्यादा है.

यूपी में 10,373 एक्टिव केस

उत्तर प्रदेश में कोरोना संक्रमण का केस लगातार बढ़ता जा रहा है. बीते 24 घंटे में गुरुवार को रिकॉर्ड 1,248 नए मामले सामने आए. राज्य में अभी एक्टिव केस की कुल संख्या 10,373 हो गई है जबकि ठीक होकर डिस्चार्ज होने वाले लोगों की संख्या 21,127 है.

उत्तर प्रदेश के प्रमुख सचिव स्वास्थ्य अमित मोहन प्रसाद ने बताया कि राज्य में अब तक कोरोना से 862 लोगों की मौत हो चुकी है. उन्होंने कहा कि अब तक उत्तर प्रदेश में 10,36,106 सैंपल्स की जांच की जा चुकी है.

 

UP लॉकडाउन Guidelines:

1. लॉकडाउन के दौरान पूरे राज्य में समस्त कार्यालय एवं समस्त शहरी व ग्रामीण हाट, बाजार, गल्ला, मंडी और व्यवसायिक प्रतिष्ठान बंद रहेंगे.

2. स्वास्थ्य और चिकित्सकीय सेवाओं की आपूर्ति पहले की तरह ही खुले रहेंगे. कोरोना वॉरियर, स्वास्थ्य, स्वच्छता कर्मी, डोर स्टेप डिलेवरी से जुड़े लोगों के आने जाने पर कोई प्रतिबंध नहीं रहेगा.

3. रेलवे का आवागमन जारी रहेगा. ट्रेन से आने वाले यात्रियों के आवागमन हेतु बसों की व्यवस्था सड़क परिवहन विभाग द्वारा की जाएगी.

4. मालवाहक वाहनों के आवागमन पर कोई प्रतिबंध नहीं रहेगा. पेट्रोल पंप खुले रहेंगे.

5. ग्रामीण क्षेत्र में स्थित औद्योगिक कारखाने खुले रहेंगे. शहरी क्षेत्रों में निरंतर चालू रहने वाले औद्योगिक कारखानों को छोड़कर सभी बंद रहेंगे.

6. लॉकडाउन के दौरान एक्सप्रेसवे, बड़े पुल और सड़कों का निर्माण जारी रहेगा.

7. प्रत्येक जिला में मजिस्ट्रेट और पुलिस अधिकारियों द्वारा संयुक्त भ्रमण किया जाएगा.

Read more

उत्तर प्रदेश में पहली बार मिले कोरोना के 300 से ज्यादा नए केस, आंकड़ा 5000 के करीब

News Byte

लखनऊ: उत्तर प्रदेश में पिछले 24 घंटे में सबसे ज्यादा रिकॉर्ड 323 कोरोना संक्रमित मरीजों के मामले सामने आए हैं. इससे पहले 17 मई को सर्वाधिक 208 मामले पाए गए थे. मंगलवार को मिले 323 नए संक्रमित मरीजों में सबसे ज्यादा बस्ती के 44 हैं. इसके साथ ही यूपी में अब तक 4926 मरीज कोरोना वायरस के पॉजिटिव पाए जा चुके हैं.

पिछले 24 घंटे में पूरे प्रदेश में पांच मौते हुई हैं, जिसमें मेरठ, फिरोजाबाद, वाराणसी, बस्ती और जालौन में एक-एक मौत हुई है. प्रदेश में मौतों का कुल आंकड़ा 123 तक पहुंच गया है. मंगलवार को 135 मरीज ठीक होकर घर चले गए, इसके साथ ही अब तक 2918 मरीज डिस्चार्ज हो चुके हैं.

बीते 24 घंटों में यहां मिले इतने मरीज
बीते 24 घंटों में 323 मामले सामने आए हैं; इनमें आगरा 12, कानपुर नगर एक, लखनऊ 11, नोएडा 31, सहारनपुर एक, ग़ाज़ियाबाद दो, मुरादाबाद 11, वाराणसी 11, हापुड़ चार, अलीगढ़ 21, रामपुर 13, बस्ती 44, बुलंदशहर 14, रायबरेली छह, मथुरा एक, बिजनौर तीन, प्रयागराज चार, बहराइच 11, गोंडा पांच, मुजफ्फरनगर एक, लखीमपुर तीन, सुलतानपुर एक, प्रतापगढ़ सात, गाजीपुर सात, संतकबीरनगर एक, देवरिया 12, मैनपुरी आठ, महाराजगंज तीन, श्रावस्ती पांच, गोरखपुर दो, बरेली तीन, फर्रुखाबाद दो, हरदोई एक, कौशाम्बी 12, मिर्जापुर छह, चित्रकूट एक, पीलीभीत नौ, फतेहपुर 14, अंबेडकर नगर दो, बलरामपुर पांच, कासगंज पांच, चंदौली पांच और कुशीनगर दो हैं.

सबसे ज्यादा मौतें आगरा में हुई
अब तक हुई 123 मौतों में से सबसे ज्यादा आगरा में 27 हुई हैं, इसके बाद मेरठ में 20, मुरादाबाद में 11, कानपुर नगर और अलीगढ़ में 8-8 मौतें हुई हैं. इसके बाद नोएडा और फिरोजाबाद में 5-5, झांसी मथुरा संतकबीर नगर व वाराणसी में 4-4, गाजियाबाद, मैनपुरी, बस्ती और जालौन में 2-2 मौत हुई हैं. वहीं, लखनऊ, अमरोहा, बुलंदशहर,श्रावस्ती, बरेली, कानपुर देहात, बिजनौर, एटा, प्रयागराज, ललितपुर, हापुड़ महोबा, प्रतापगढ़, आजमगढ़ और कुशीनगर में एक-एक मौत हुई है.

135 मंगलवार ठीक होकर घर लौटे
मंगलवार को 135 कोरोना संक्रमित मरीज ठीक होकर वापस चले गए हैं। इनमें आगरा 66, मेरठ 13, लखनऊ एक, नोएडा छह, सहारनपुर एक, फिरोजाबाद तीन, मुरादाबाद नौ, हापुड़ चार, अलीगढ़ 10, संभल एक, मथुरा दो, बिजनौर एक, गोंडा 11,  झांसी तीन, देवरिया एक, श्रावस्ती एक और बांदा में दो मरीज डिस्चार्ज वापस होकर घर चले गए हैं.

Read more

प्रियंका गाँधी की योगी सरकार को चिट्ठी, 5 बजे तक गाजियाबाद-नोएडा पहुंचा देंगे 1000 बसें

News Byte

लखनऊ: लॉकडाउन में फंसे प्रवासी मजदूरों के लिए बस चलाने को लेकर कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के बीच खींचतान बढ़ रही है. प्रियंका गांधी की ओर से मंगलवार को एक बार फिर से आगरा के बॉर्डर पर बसें लगनी शुरू हो गई हैं. प्रियंका गांधी के निजी सचिव संदीप सिंह ने मंगलवार को सवा 12 बजे यूपी अपर मुख्य सचिव अवनीश अवस्थी को पत्र लिखकर कहा कि ज्यादा बसें होने के चलते उनकी परमिट लेने में कुछ समय लग रहा है, लेकिन शाम पांच बजे तक सभी बसें यूपी बॉर्डर पर पहुंच जाएंगी.

प्रियंका के सचिव संदीप सिंह द्वारा लिखे गए पत्र में कहा है कि आपका पत्र हमें मंगलवार 11.5 बजे मिला है. इस संदर्भ में बताना चाहता हूं कि हमारी कुछ बसें राजस्थान से आ रही हैं और कुछ बसें दिल्ली से आ रही हैं. इनके लिए दोबारा से परमिट दिलवाने की कार्यवाही जारी है. बसों की संख्या अधिक होने के नाते इस में कुछ घंटे लगेंगे. ये सारी बसें शाम पांच बजे तक गाजियाबाद और नोएडा बॉर्डर पर पहुंच जाएंगी. शाम पांच बजे तक यात्रियों की लिस्ट और रूट मैप तैयार रखेंगे ताकि इनके संचालन में हमें कोई आपत्ती न आए.

प्रियंका गांधी ने प्रवासी श्रमिकों के लिए 1000 बसें भेजने के लिए प्रदेश सरकार से अनुमति मांगी थी. उनका आरोप है कि यूपी सरकार उन्हें बसें चलाने की अनुमति नहीं दे रही है. वहीं योगी के सलाहकार का आरोप है कि कांग्रेस से बसों की डीटेल मांगी गई जिसमें बाइक-कार और ऑटो के नंबर थे.

बता दें कि कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने 16 मई को ट्वीट कर कहा था कि हजारों श्रमिक, प्रवासी भाई-बहन बिना खाए भूखे प्यासे पैदल दुनिया भर की मुसीबतों को उठाते हुए अपने घरों की ओर चल रहे हैं. यूपी के हर बॉर्डर पर बहुत मजदूर मौजूद हैं. ऐसे में प्रिंयका ने प्रवासी श्रमिकों के लिए 1000 बसें भेजने के लिए प्रदेश सरकार से अनुमति मांगी थी. उनका आरोप है कि यूपी सरकार उन्हें बसें चलाने के अनुमति नहीं दे रही है. वहीं योगी का आरोप है कि कांग्रेस से बसों का डीटेल मांगा गया था, लेकिन वह उन्हें नहीं दिया गया.

News Byte

Read more

उत्तर प्रदेश: यूपी के औरेया में ट्रॉलर पलटने से 24 मजदूरों की मौत, 35 घायल

News Byte

औरैया: उत्तर प्रदेश के औरैया जिले में शनिवार तड़के सुबह हुए भीषण हादसे में 24 प्रवासी मजदूरों की मौत हो गई. सभी श्रमिक एक ट्रक और ट्राले में सवार थे. दिल्ली-कानपुर हाइवे पर हुए दर्दनाक हादसे में 36 श्रमिक गंभीर रूप से घायल हैं.

औरैया के डीएम अभिषेक सिंह ने बताया कि यह हादसा सुबह तकरीबन साढ़े तीन बजे हुआ, इस हादसे में अब तक 24 लोगों की मौत हुई है. कई लोग घायल हैं, इनमें से ज्यादातर मजदूर बिहार, झारखंड और पश्चिम बंगाल के रहने वाले थे.

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सड़क हादसे की फौरन जांच रिपोर्ट मांगी है, उत्तर प्रदेश के अपर मुख्य सचिव (गृह एवं सूचना) अवनीश अवस्थी ने बताया कि, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने औरैया में दुर्भाग्यपूर्ण घटना का तत्काल संज्ञान लिया है. उन्होंने जान गंवाने वाले मजदूरों के परिवारों के प्रति गहरी संवेदना व्यक्त की है.

मुख्यमंत्री ने सभी घायलों को तुरंत चिकित्सा सुविधा उपलब्ध कराए जाने व कमिश्नर और आईजी (कानपुर) को घटनास्थल का दौरा कर दुर्घटना के कारणों की तुरंत रिपोर्ट देने को कहा है.

यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कल ही अधिकारियों को निर्देश दिया था कि किसी भी प्रवासी मजदूर को असुरक्षित तरीके से यात्रा की अनुमति ना दी जाए फिर भी ये हादसा हुआ. आज गाजियाबाद और नोएडा से मजदूरों को उनकी मंजिल तक ले जाने के लिए ट्रेन भी चलने वाली हैं लेकिन इसके बावजूद मजदूरे जान जोखिम में डालकर सफर कर रहे हैं. इसलिए सवाल ये उठ रहे हैं कि इस हादसे की जिम्मेदारी किसकी है.

यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ ने औरैया में हुई दुर्भाग्यपूर्ण घटना पर दुख जताया है. उन्होंने जान गंवाने वाले मजदूरों के परिवारों के प्रति अपनी गहरी संवेदना व्यक्त की है. उन्होंने यह भी निर्देश दिया है कि सभी घायलों को तुरंत चिकित्सा सुविधा उपलब्ध कराई जाए. कमिश्नर और आईजी कानपुर घटनास्थल का दौरा करें और दुर्घटना के कारणों की रिपोर्ट दें.

Read more