Skip to main content

पश्चिम बंगाल


West Bengal Election: मिदनापुर में ममता बनर्जी पर बरसे अमित शाह - "ममता बनर्जी अकेली पड़ जाएंगी"

News Byte

कोलकाता: तृणमूल कांग्रेस के दिग्गज नेता सुवेंदु अधिकारी शनिवार को गृह मंत्री अमित शाह की मिदनापुर में हुई मेगा रैली के दौरान BJP में शामिल हुए. शाह ने सुवेंदु अधिकारी का बीजेपी में स्वागत किया. शाह ने टीएमसी प्रमुख और बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी पर सीधा हमला बोला. उन्होंने कहा, "क्यों इतने सारे लोग तृणमूल कांग्रेस छोड़ रहे हैं. इसके पीछे ममता का कुशासन, भ्रष्टाचार और भाई-भतीजावाद है. दीदी यह तो सिर्फ आगाज है, चुनाव आने तक आप अलग-थलग पड़ जाएंगी."

पश्चिम बंगाल के मिदनापुर में जनसभा को संबोधित करते हुए केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने मुख्यमंत्री ममता बनर्जी पर जमकर निशाना साधा. अमित शाह ने कहा कि ममता बनर्जी कहती हैं कि बीजेपी दूसरी पार्टियों से लोगों को लेती है. मैं ममता बनर्जी को उन दिनों की याद दिलाना चाहता हूं, जब वो कांग्रेस में थीं, उन्होंने जब कांग्रेस छोड़कर तृणमूल कांग्रेस बनाई तो वो दलबदल नहीं था क्या.

अमित शाह ने कहा कि आज सभी दलों से अच्छे लोग बीजेपी में आ गए हैं. आज 1 एमपी, 9 एमएलए समेत कई नेता बीजेपी में शामिल हुए हैं. अमित शाह ने कहा कि अभी तो शुरुआत हुई है, चुनाव आते-आते तो ममता दीदी आप अकेली रह जाएंगी.

अमित शाह ने कहा कि शुभेंदु अधिकारी के नेतृत्व में कांग्रेस, तृणमूल, सीपीएम सभी पार्टी से अच्छे लोग आज बीजेपी में नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में काम करने के लिए बीजेपी से जुड़े हैं. अमित शाह ने कहा कि दीदी कहती हैं कि बीजेपी दलबदल कराती है. दीदी मैं आपको याद कराने आया हूं, जब आपने कांग्रेस छोड़कर तृणमूल बनाई तो वो दलबदल नहीं था?

केंद्रीय गृह मंत्री ने कहा कि बीजेपी में जो लोग आज आ रहे हैं वो मां माटी मानुष के नारे के साथ निकले थे. लेकिन ममता दीदी की सरकार ने मां माटी मानुष के नारे को तोलाबाजी, तुष्टीकरण और भतीजावाद में परिवर्तित कर दिया. अमित शाह ने कहा कि 300 से अधिक बीजेपी कार्यकर्ताओं ने बंगाल में अपनी जान गंवाई है. हम  झुकेंगे नहीं. जितना अधिक टीएमसी हम पर हमला करेगा, उतनी ही आक्रामक तरीके से हम जीत की ओर बढ़ेंगे.

Read more

पश्चिम बंगाल जीतने के लिए बीजेपी ने बनाई ये रणनीति, हर सीट पर नज़र रखेगी खास टीम

News Byte

पश्चिम बंगाल: पश्चिम बंगाल में 2021 में होने वाले विधानसभा चुनावों के लिए बीजेपी खास रणनीति बनाने जा रही है. हर सीट पर पार्टी की नज़र होगी. बीजेपी (BJP) स्थानीय मुद्दों पर टीएमसी (TMC) को घेरने की तैयारी कर रही है.

मिशन बंगाल के लिए बीजेपी ने बनाई खास रणनीति।
यूं तो बंगाल में 2021 में विधानसभा चुनाव होने हैं, लेकिन बीजेपी पूरे जोर-शोर से अभी से चुनाव जीतने की तैयारियों में जुटी है. बीजेपी ने इस बार सूबे में केसरिया झंडा लहराने के लिए मिशन बंगाल तैयार किया है. पार्टी का मानना है कि ममता बनर्जी के 10 साल के शासन को वो इस बार बदल देंगे. पार्टी ने सूबे में 200+ सीटें जीतने की योजना तैयार की है. लोकसभा चुनाव के नतीजों ने साफ कर दिया है कि राज्य में कभी बड़ी ताकत रहे लेफ्ट और कांग्रेस का वजूद अब समाप्त हो गया है और बीजेपी ही मुख्य विपक्षी ताकत बन गई है.


हर सीट के लिए बनेगी विशेष टीम
बीजेपी ने राज्य की सभी 294 सीटों पर विशेष तैयारियां शुरू कर दी हैं. पिछले दिनों बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने राज्य के पार्टी नेताओं के साथ बैठक की, जिसके बाद फैसला लिया गया कि राज्य की हर सीट पर 4 लोगों की एक टीम बनाई जाएगी. जिसमें सांसद, विधायक और स्थानीय संगठन के नेता शामिल होंगे. खास बात ये है कि जिस नेता को जिस सीट की टीम में शामिल किया जाएगा, उसका वहां से कोई लेना-देना नहीं होगा. जैसे अगर कोई नेता हावड़ा सीट पर प्रभाव रखता है, तो उसे दार्जिलिंग की सीट के लिए बनी टीम में रखा जाएगा. ऐसा इसलिए किया जा रहा है ताकि टीम में शामिल नेता पूरे निष्पक्ष तरीके से अपनी रिपोर्ट तैयार कर सकें. अपनी सीटों की सभी छोटी से छोटी जानकारी इकट्ठा कर एक रिपोर्ट तैयार करना इस टीम की जिम्मेदारी होगी.

राज्य की प्रत्येक सीट को लेकर विशेष तैयारी कर रही है बीजेपी
ममता बनर्जी के अभेद किले को ढहाने के लिए बीजेपी की ये टीमें विजयादशमी से अपना काम शुरू कर देंगी. 15 दिनों तक ये अपने अपने क्षेत्रों में रहकर सीट का प्रोफाइल तैयार करेंगे. जिसमें उस सीट के जातिगत समीकरणों, प्रभावशाली नेताओं की पहचान, वहां बीजेपी की वर्तमान स्थिति, अगर स्थिति कमजोर है तो उसके कारण. इस रिपोर्ट के तैयार होने के बाद नवंबर के पहले हफ्ते में फिर से बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह के साथ इनकी बैठक होगी.
लोकसभा चुनावों में किया था शानदार प्रदर्शन

2019 के लोकसभा चुनाव में बीजेपी ने राज्य की 40 लोकसभा सीटों में से 18 पर जीत हासिल की थी, जबकि 5 साल पहले हुए विधानसभा चुनाव में उसे सिर्फ 6 सीटों पर ही जीत मिल पाई थी. लोकसभा के शानदार प्रदर्शन के बाद कई इलाकों के स्थानीय टीएमसी नेता भी बीजेपी में शामिल हुए हैं. पार्टी को विश्वास है कि जैसे जैसे विधानसभा चुनाव करीब आएंगे, कई और प्रभावशाली नेता बीजेपी में शामिल होंगे.
लोकसभा चुनावों में बीजेपी ने राज्य की 40 में से 18 सीटों पर जीत हासिल की थी

अल्पसंख्यक सीटों के लिए विशेष योजना राज्य में करीब 90 सीटें ऐसी हैं, जो अल्पसंख्यक समुदाय के लोगों के प्रभाव वाली हैं. इन सीटों के लिए अलग से कार्य योजना तैयार की जा रही है. ममता बनर्जी के बांग्ला गौरव की धार को कुंद करने के लिए बीजेपी बंगालियों से जुड़े मुद्दों को खड़ा करेगी. रोजगार सृजन के लिए औद्योगिकीकरण और राज्य के लिए एनआरसी को बड़ा मुद्दा बनाया जाएगा, ताकि अवैध रूप से रह रहे बांग्लादेशियों को राज्य से खदेड़ा जा सके.

Read more