Skip to main content

Tag : Corona Virus


रूस ने बनाई दुनिया की पहली कोरोना वैक्सीन Sputnik V, कब और कितने दाम में मिलेगी; जानें सबकुछ

News Byte

मॉस्‍को: रूस ने दुनिया की पहली कोरोना वैक्सीन बना लेने का ऐलान मंगलवार को किया. खुद राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने इसका ऐलान करते हुए कहा कि उनके देश ने कोरोना वायरस की पहली वैक्सीन बना ली है. उन्होंने यह भी बताया कि उनकी बेटी को भी यह टीका लगाया गया है और वह अच्छा महसूस कर रही है. रूस ने इस वैक्सीन का नाम स्पुतनिक-5 (Sputnik V) रखा है कि जो उसके एक उपग्रह का भी नाम है. दावा है कि इस टीके से Covid-19 के खिलाफ स्थाय़ी इम्यूनिटी विकसित की जा सकती है.

मंगलवार को रूस के स्वास्थ्य मंत्रालय ने वैक्सीन को सफल करार दिया. इसी के साथ व्लादिमीर पुतिन ने ऐलान किया कि रूस में जल्द ही इस वैक्सीन का प्रोडक्शन शुरू किया जाएगा और बड़ी संख्या में वैक्सीन की डोज़ बनाया जाएगा. रूस के राष्‍ट्रपति ने कहा, "इस सुबह दुनिया में पहली बार, नए कोरोना वायरस के खिलाफ वैक्‍सीन रजिस्‍टर्ड हुई." उन्‍होंने उन सभी को धन्‍यवाद दिया जिन्‍होंने इस वैक्‍सीन पर काम किया है. पुतिन ने कहा कि वैक्‍सीन सारे जरूरी टेस्‍ट से गुजरी है. अब यह वैक्‍सीन बड़े पैमाने पर उत्पादन के लिए भेजी जाएगी. रूस के स्‍वास्‍थ्‍य मंत्री मिखाइल मुराशको ने बताया कि, इसी महीने से हेल्‍थ वर्कर्स को वैक्‍सीन देने की शुरुआत की जा सकती है. रूस में सबसे पहले फ्रंट लाइन हेल्थ वर्कर्स को कोरोना का टीका लगाया जाएगा. इसके बाद सीनियर सिटिजंस को वैक्‍सीन दी जाएगी.

दुनिया में सबसे पहले किसे मिलेगी ये वैक्‍सीन, जानें
रूस ने बेशक सबसे पहले कोरोना वायरस की वैक्सीन बनाने का दावा कर लिया हो लेकिन अभी भी दुनिया के कई देश इस वैक्सीन को लेने में संदेह जाहिर कर रहे हैं. दुनिया के पश्चिमी देशों सहित वर्ल्‍ड हेल्‍थ ऑर्गनाइजेशन ने चिंता जताई है कि बिना पर्याप्‍त डेटा के वैक्‍सीन सप्‍लाई करना अभी सही नहीं होगा. यूनाइटेड किंगडम ने साफ तौर पर अपने देश के नागरिकों को इस वैक्सीन की डोज देने से मना कर दिया है. विश्व स्वास्थ्य संगठन, युनाइटेड किंगडम सहित पश्चिमी देशों के ऐसे सवालों की वजह से हो सकता है कि शुरुआती दौर में वैक्‍सीन अभी दूसरे देशों को न भेजी जाए. रूस पहले इसे अपने देश में उपयोग में लाएगा और फिर अन्य देश इसका असर देखने के बाद इस पर कोई फैसला लेंगे.

जानिए क्या होगा कोरोना वैक्सीन का दाम
रूस ने कोरोना महामारी पर शिकंजा कसने के लिए हथियार ईजाद कर दिया है यह पूरी दुनिया के लिए सबसे बड़ी उपलब्धि साबित हो सकती है. इस वैक्सीन की कीमत के बारे में सबको उत्सुकता है कि इस वैक्सीन का दाम क्या होगा. रूस की एजेंसी TASS के मुताबिक, रूस में यह वैक्‍सीन 'फ्री ऑफ कॉस्‍ट' उपलब्‍ध होगी, यानि कि रूस अपने देश के नागरिकों को यह वैक्सीन बिना पैसों के ही उपलब्ध करवाएगा. रूस ने बताया कि इस वैक्सीन पर आने वाली लागत को देश के बजट से पूरा किया जाएगा. रूस बाहरी देशों को ये वैक्सीन कितने दामों पर बेचेगा इस बात का खुलासा अभी रूस ने नहीं किया है.

जानिए कब तक मिलेगी वैक्सीन?
रूस ने कोरोना वैक्सीन के सफल परीक्षण का दावा कर लिया है लेकिन अभी इस वैक्सीन की कुछ सीमित डोज ही तैयार की गई हैं. आपको बता दें कि इस वैक्सीन को रेगुलेटरी अप्रूवल भी मिल चुका है. अब इस वैक्सीन का इंडस्ट्रियल प्रोडक्शन अगले महीने यानि कि सितंबर से शुरू हो सकता है. रूस ने कहा है कि वो अक्टूबर के महीने से देशभर में कोरोना वायरस के टीकाकरण की शुरुआत कर सकता है.

Read more

30 जून तक बढ़ा देश में लॉकडाउन, 8 जून से धार्मिक स्थल और शॉपिंग मॉल खुलेंगे

News Byte

नई दिल्ली: देश में जारी कोरोना वायरस के संक्रमण को रोकने के लिए लॉकडाउन को सरकार ने 30 जून तक बढ़ाने का फैसला किया है. हालांकि इस बार सरकार ने कंटेनमेंट जोन को छोड़कर बाकी जगहों पर मॉल और रेस्टोरेंट को भी खोलने की इजाजत दे दी है. अब 8 जून से मॉल और रेस्टोरेंट खुल सकेंगे. गृह मंत्रालय ने कंटेनमेंट जोन के बाहर के क्षेत्रों को फिर से खोलने के लिए नए दिशानिर्देश जारी किए. ये दिशानिर्देश 1 जून, 2020 से लागू होंगे और 30 जून, 2020 तक प्रभावी रहेंगे.

सरकार ने पहले फेज के तहत 8 जून से धार्मिक स्थल, होटल, सैलून, रेस्टोरेंट खोलने की इजाजत दे दी है. हालांकि सरकार ने शर्तों के साथ खोलने की अनुमति दी है.

कोरोना वायरस से निपटने के लिए देश फिलहाल लॉकडाउन के दौर से गुजर रहा है. लॉकडाउन 4.0 की अवधि 31 मई को खत्म हो रही है. ऐसे में सरकार ने इसे और बढ़ा दिया है. दूसरे फेज के तहत स्कूल-कॉलेज खोलने का फैसला केंद्र ने राज्यों पर छोड़ दिया है. जुलाई में राज्य इसपर फैसला लेंगे.

 

गृहमंत्रालय की ओर से जारी आदेश में कहा गया है कि देश के सभी कंटेनमेंट जोन में लॉकडाउन 30 जून तक जारी रहेगा. कंटेनमेंट जोन की पहचान जिला अधिकारियों के द्वारा की जाएगी. कंटेनमेंट जोन में केवल जरूरी गतिविधियों की छूट रहेगी. कंटेनमेंट जोन में लॉकडाउन नियमों को सख्ती से लागू करने को कहा गया है. मेडिकल इमर्जेंसी के अलावा किसी व्यक्ति को कंटेनमेंट जोन से बाहर जाने या बाहर से से कंटेनमेंट जोन में जाने की इजाजत नहीं होगी. राज्य बफर और जोन की भी पहचान कर सकते हैं. गृहमंत्रालय ने कहा है कि स्थिति को देखते हुए यदि राज्यों को कंटेनमेंट जोन के बाहर कुछ गतिविधियों पर रोक की आवश्यकता महसूस होती है तो वे ऐसा कर सकेंगे.

 

 

नए दिशानिर्देशों के अनुसार कंटेनमेंट जोन के बाहर वो सभी गतिविध‍ियां फिर से शुरू हो सकेंगी जिनपर अब तक पाबंदी लगी थी. लेकिन ऐसा चरणबद्ध तरीके से किया जाएगा.

- निषिद्ध क्षेत्रों के बाहर प्रतिबंधित गतिविधियों को चरणबद्ध तरीके से खोला जाएगा. 
- आठ जून से जिन गतिविधियों को अनुमति दी जाएंगी उनमें लोगों के लिए धार्मिक स्थल, होटल, रेस्तरां एवं अन्य होटल सेवाएं शामिल होंगी
- आठ जून से शॉपिंग मॉल खोलने की अनुमति होगी
- राज्यों एवं केंद्र शासित प्रदेशों के साथ विचार-विमर्श कर स्कूल, कॉलेज, शैक्षणिक, प्रशिक्षण, कोचिंग संस्थान खोले जाएंगे
- शैक्षणिक संस्थानों को जुलाई से खोलने को लेकर राज्य, केंद्र शासित प्रदेश अभिभावकों, अन्य संबंधित पक्षों से विचार-विमर्श करेंगे
- रात में कर्फ्यू के समय की समीक्षा होगी, पूरे देश में अब रात नौ बजे से सुबह पांच बजे तक लोगों के घूमने-फिरने पर प्रतिबंध होगा 
- स्थिति का आकलन करने के बाद अंतररष्ट्रीय हवाई यात्रा, मेट्रो ट्रेन, सिनेमा हाल, जिम, राजनीतिक सभाओं इत्यादि पर निर्णय लिया जाएगा

Read more

कोरोना अपडेट: देश में बढ़ता कोरोना का कहर, पिछले 24 घंटे में 5609 नए मामले और 132 की मौत

News Byte

नई दिल्ली: दुनियाभर देशों के साथ-साथ भारत में भी कोरोना वायरस का कहर तेजी से बढ़ रहा है. रिपोर्ट्स के अनुसार, 180 से ज्यादा देशों में फैल चुका यह वायरस अब तक करीब सवा तीन लाख जानें ले चुका है. दुनियाभर में 49 लाख से ज्यादा लोग इससे संक्रमित हो चुके हैं. यह आंकड़ा हर रोज बढ़ रहा है. स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा गुरुवार सुबह जारी आंकड़ों के अनुसार, भारत में इस वायरस से संक्रमित लोगों की संख्या 1,12,359 हो गई है. पिछले 24 घंटों में कोरोना के 5,609 नए मामले सामने आए हैं और 132 लोगों की मौत हुई है.

अभी तक 3,435 लोगों की मौत हो चुकी है, हालांकि 45,300 मरीज इस बीमारी को मात देने में सफल भी हुए हैं. रिकवरी रेट में लगातार सुधार हो रहा है. यह 40.31 प्रतिशत पर पहुंच गया है. देश के सभी राज्यों से वायरस से संक्रमित मरीज सामने आ रहे हैं, हालांकि कई राज्य ऐसे भी हैं जो इस महामारी से मुक्त हो चुके हैं.

बताते चलें कि पीएम मोदी ने 24 मार्च को कोरोना से बचाव के चलते ही देश में 21 दिनों के लॉकडाउन की घोषणा किया था. जिसके बाद 14 अप्रैल को पीएम ने एक बार फिर देश की जनता को संबोधित करते हुए 19 दिनों के लिए लॉकडाउन को आगे बढ़ाए जाने की जानकारी दी. 3 मई को यह मियाद खत्म होनी थी लेकिन इससे पहले ही गृह मंत्रालय ने दो हफ्तों के लिए लॉकडाउन को और बढ़ा दिया. 17 मई तक यह लागू था. 17 मई की देर शाम केंद्र सरकार ने इसे दो हफ्ते और बढ़ाने का फैसला किया. अब देश में लॉकडाउन 31 मई तक लागू रहेगा.

 

Read more

कोरोना अपडेट: देश में कोरोना संक्रमितों का आंकड़ा 1 लाख के पार पहुंचा, मरने वालो की संख्या 3000 के पार

News Byte

नई दिल्ली: कोरोना महामारी संकट को लेकर देश में 55 दिन से जारी लॉकडाउन के बावजूद संक्रमितों का आंकड़ा थमने का नाम नहीं ले रहा है. भारत में कोरोनावायरस संक्रमितों का आंकड़ा अब 1 लाख पार कर गया है. अब यहां कुल 1 लाख 328 मामले सामने आ चुके हैं. इस तरह से एक लाख केस पार करने वाला भारत विश्व का 11वां देश बन गया है. बता दें कि देश में अब तक 3 हजार से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है और 36 हजार से ज्यादा लोग ठीक हो चुके हैं.

महाराष्ट्र राज्य देश में सबसे ज्यादा प्रभावित राज्य है. महाराष्ट्र में इसके संक्रमितों का आकंड़ा 35 हजार के पार पहुंच गया है. सोमवार को महाराष्ट्र में कोरोना के 2033 नए मामले सामने आए और इस दौरान 51 लोगों की जान गई. महाराष्ट्र में संक्रमितों का कुल आंकड़ा अब 35058 हो गया है.

वहीं, मुंबई में कोरोना के 1,185 नए मामले सामने आए, जिसके बाद संक्रमितों की कुल संख्या 21,335 तक पहुंच गई और 23 मरीजों की मौत के साथ ही मृतकों का आंकड़ा 757 तक जा पहुंचा. महाराष्ट्र में अब तक 1249 लोगों की कोरोनावायरस से मौत हो चुकी है.

महाराष्ट्र के बाद गुजरात का नंबर आता है जहां कोरोना के करीब 12 हजार संक्रमित हैं. इसके बाद 11200 से ज्यादा संक्रमितों के साथ तमिलनाडु तीसरे नंबर पर है. इसके बाद दिल्ली का नंबर आता है, जहां 10 हजार से ज्यादा मरीज हैं.

इससे पहले सोमवार की सुबह स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा जारी किए गए आंकड़ों के अनुसार देश में कोविड-19 के कारण मरने वालों की संख्या सोमवार को 3,029 हो गई और संक्रमण के कुल मामले 96,169 पर पहुंच गए. केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के मुताबिक पिछले 24 घंटों में 157 लोगों की मौत हुई और रिकॉर्ड 5,242 मामले सामने आए. मंत्रालय ने बताया कि देश में 56,316 लोग अब भी कोरोना वायरस से संक्रमित हैं जबकि 36,823 लोग स्वस्थ हुए हैं और एक व्यक्ति विदेश चला गया है. सुबह स्वास्थ्य मंत्रालय के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया, “अब तक 38.29 प्रतिशत मरीज स्वस्थ हुए हैं.” मंत्रालय ने बताया कि कुल मामलों में विदेशी नागरिक भी शामिल हैं.

Read more

कोरोना कहर: देश में अब तक 85940 मामले, 24 घंटे में 103 मौतें व 3970 नए केस

News Byte

नई दिल्ली: चीन से फैले इस कोरोना वायरस का कहर पूरी दुनिया में दिख रहा है. दुर्भाग्य की बात है कि, भारत में कोरोना के मामलों ने चीन को भी पछाड़ दिया है. आये दिन कोरोना मामले की संख्या दिनभर दिन बढ़ती जा रही है.

देश में कोरोना वायरस के संक्रमितों की संख्या अब 85940 पार हो गई है, जो चीन से भी अब अधिक हो गई है. पिछले 24 घंटे में कोरोना वायरस संक्रमण से 103 लोगों की मौतें हुई हैं और कुल 3970 नए मामले सामने आए हैं.

शनिवार को जारी केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के आंकड़ों के मुताबिक, देशभर में कोरोना वायरस के मामले बढ़कर करीब 85940 हो गए हैं और कोविड-19 से अब तक 2752  लोगों की मौत हो चुकी है. कोरोना के कुल 85940 केसों में 53035 एक्टिव केस हैं, वहीं 30153 लोगों को अस्पताल से छुट्टी मिल चुकी है या फिर वह ठीक हो चुके हैं. कोरोना वायरस से अब तक सर्वाधिक 1068 लोगों की मौत महाराष्ट्र में हुई, यहां अब इस महामारी से पीड़ितों की संख्या 29100 हो गई है.

राज्यों में कोरोना वायरस की स्थिति:
 

महाराष्ट्र:  महाराष्ट्र में कोरोना ने ऐसी तहाबी मचाई है कि, मौत का आंकड़ा यहां हजार से ज्यादा हो गया है. महाराष्ट्र में कोविड-19 के कुल 29100 पॉजिटिव केस मिल चुके हैं, इनमें से 6564 लोग पूरी तरह से स्वस्थ हो चुके हैं या उन्हें छुट्टी दे दी गई है. इस राज्य में अब तक सबसे अधिक 1068 लोगों की जान जा चुकी है.

नई दिल्ली: दिल्ली में कोरोना वायरस के संक्रमण की रफ्तार में कमी नहीं आई है, राजधानी में कोरोना वायरस के अब तक 8895 मामले आ चुके हैं. कोविड-19 महामारी से जहां 123 लोगों की मौत हो चुकी है, वहीं 3518 लोग पूरी तरह से स्वस्थ हो चुके हैं.

गुजरात: महाराष्ट्र के बाद कोविड-19 ने सबसे ज्यादा गुजरात में तबाही मचाई है, गुजरात में कोरोना के अब तक 9931 मामले सामने आ चुके हैं. गुजरात में कोरोना से 606 लोगों की मौत हो चुकी है और 4035 लोग या तो स्वस्थ हो चुके हैं या फिर उन्हें अस्पताल से छुट्टी दे दी गई है.  

मध्य प्रदेश: मध्य प्रदेश भी कोरोना वायरस का आंकड़ा लगातार बढ़ता जा रहा है. यहां कोरोना के मामलों की संख्या बढ़कर 4595 हो गई है, जिनमें से 239 लोगों की मौत भी हो चुकी है. इसके अलावा, 2283 लोग ठीक हो चुके हैं.

तमिलनाडु: तमिलनाडु में भी कोरोना वायरस के मरीजों की संख्या 10 हजार पार कर चुकी है. इस राज्य में अब तक 10108 कोरोना के मामले आ चुके हैं. यहां इस महामारी से 71 की मौत भी हो चुकी है और 2599 पूरी तरह से ठीक भी हो चुके हैं.

आंध्र प्रदेश: आंध्र प्रदेश में कोरोना वायरस के अब तक 2307 मामले सामने आए हैं, जिनमें से 1252 लोगों का इलाज हो गया है और उन्हें अस्पताल से छुट्टी दे दी गई है. यहां 48 की मौत भी हुई है.

बिहार: बिहार में कोरोना वायरस के संक्रमितों की संख्या हजार पार कर चुकी है. कोरोना वायरस के बिहार में अब तक 1018 मामले दर्ज किए गए हैं. हालांकि, बिहार में कोरोना वायरस से 7 लोगों की मौत हो चुकी है, वहीं 438 लोग ठीक हो चुके हैं.

उत्तर प्रदेश: यूपी में कोरोना वायरस के मरीजों की संख्या चार हजार पार कर चुकी है. अब तक यहां 4057 केस आ चुके हैं. हालांकि, इनमें से 2165 लोग पूरी तरह से स्वस्थ हो चुके हैं और 95 लोगों की मौत हो चुकी है.

राजस्थान: राजस्थान में भी कोरोना के मामलो में काफी तेजी देखी जा रही है. यहां कोरोना वायरस के अब तक 4727 मामले सामने आ चुके हैं. 125 लोगों की मौत का मामला सामने आया है, वहीं 2677 लोग ठीक हो चुके हैं.

पश्चिम बंगाल: बंगाल में भी कोरोना कहर बरपा रहा है, यहां कोरोना वायरस के अब तक 2461 संक्रमित मामले सामने आए हैं, जिनमें से 829 की मौत हो चुकी है. इनमें से 225 लोग ठीक भी हो चुके हैं.

Read more