Skip to main content

Tag : Nitish Kumar


कोन होंगा बिहार का मुख्यमंत्री? नितीश का जवाब - NDA लेंगा फैसला

News Byte

पटना: हाल ही हुए बिहार विधानसभा चुनाव के नतीजों के बाद आज पहली बार मुख्यमंत्री नीतीश कुमार मीडिया से मुलाकात की. उन्होंने कहा कि जनता ने एनडीए को बहुमत दिया है और हम सरकार बनाएंगे. शपथ ग्रहण को लेकर उन्होंने कहा कि इसका अभी निर्णय नहीं लिया गया है कि शपथ ग्रहण छठ या दिवाली के बाद होगा. हम रिजल्ट की समीक्षा कर रहे हैं. सहयोगी चार पार्टियों के नेता कल बैठक करेंगे. उन्होंने कहा कि इसमें तीन से चार दिन का वक्त लग सकता है.

साथ ही नीतीश कुमार ने कहा कि एनडीए के चारों घटक (जेडीयू, बीजेपी, हम और वीआईपी) दलों की कल औपचारिक बैठक होगी. इस बैठक में सभी महत्वपूर्ण फैसले लिए जाएंगे.

बता दें कि 243 सीटों वाली बिहार विधानसभा में एनडीए को 125 सीटें मिली हैं. बीजेपी को 74 सीटें और जेडीयू को 43 सीटें मिलीं. वहीं, आरजेडी के हिस्से 75 सीटें आई हैं और वह बिहार की सबसे बड़ी पार्टी बनकर उभरी है जबकि उसकी सहयोगी कांग्रेस पार्टी को 19 सीटें और वामपंथी दलों को 16 सीटें मिली हैं. महागठबंधन को कुल110 सीटें मिली हैं.

 

Read more

हाथों में 3 साल के बच्चे की लाश लेकर बदहवास भागती ये मां बिहार में स्वास्थ्य व्यवस्था की बदहाली की गवाह है|

News Byte

देश में एक ओर कोरोना की महामारी ने देश को पटरी से उतार दिया, देश की स्वास्थ विभाग दिन रात मेहनत कर लोगो को बचाने की कोशिश क्र रही है. वही दूसरी ओर बिहार में स्वास्थ विभाग की अनदेखी सामने आई है, जिससे ३ साल की बच्चे की स्वास्थ सुविधा न मिलने से मौत हुई है.

बिहार के मुख्यमंत्री नितीश कुमार के १५ साल के शाशनकाल से स्वास्थ सेवाओं में कुछ भी बदलाव नहीं आया है|

हाथों में 3 साल के बच्चे की लाश लेकर बदहवास भागती ये मां बिहार में स्वास्थ्य व्यवस्था की बदहाली की गवाह है। जहां एम्बुलेंस न मिलने की वजह से मासूम की जान चली गई। बच्चे को पहले अरवल से जहानाबाद रेफर किया, फिर जहानाबाद से पटना।

मरने के बाद शव ले जाने के लिए भी एम्बुलेंस नहीं मिली।

बिहार की स्वास्थ्य व्यवस्था छोटी बीमारियों पर भी दम तोड़ देती है

3 साल के बच्चे का शव हाथ में ले जाती माँ की तस्वीर सभ्य समाज पर तमाचा है,जिसका हम सब हिस्सा हैं

बिहार में तो डबल इंजन की सरकार है फिर भी इतनी बदनसीबी?

हाथों में 3 साल के बच्चे की लाश लेकर बदहवास भागती ये मां बिहार में स्वास्थ्य व्यवस्था की बदहाली की गवाह है। जहां एम्बुलेंस न मिलने की वजह से मासूम की जान चली गई। बच्चे को पहले अरवल से जहानाबाद रेफर किया, फिर जहानाबाद से पटना। मरने के बाद शव ले जाने के लिए भी एम्बुलेंस नहीं मिली।

 

ट्विटर पे अब बिहार सरकार की काफी आलोचना हो रही है.

ट्विटर हैंडलर उमाशंकर सिंह लिखते है की "आदरणीय @नितीशकुमार  जी, आप कभी गर्व से महसूस कर पाते हैं कि आप 15 साल से बिहार के CM हैं? अगर इस माँ का क्रंदन सुनने के बाद भी आप गर्व से महसूस कर रहे हैं कि हाँ मैं अभी भी बिहार का CM हूँ तो इससे शर्मनाक कुछ नहीं हो सकता। सोने से पहले चेहरे पर पानी का छींटा मार कर पोंछ लीजिएगा।"

 

Read more